भैरव जी की आरती | Bhairav Aarti PDF

Bhairav Aarti PDF: भगवान भैरव भगवान शिव के एक अवतार हैं। भैरव शब्द का अर्थ है “भयानक”। वे शत्रुओं के लिए बहुत क्रोधी और अपने भक्तों के लिए दयालु माने जाते हैं।

माना जाता है कि भैरव जी की आराधना से शत्रु मुक्ति, संकट और कोर्ट-कचहरी के मुकदमों में विजय प्राप्त होती है। इसके अलावा इनकी पूजा करने से शनि का प्रकोप भी शांत हो जाता है। रविवार और मंगलवार को काल भैरव की पूजा करना बहुत ही फलदायी होता है।

भैरव जी की आरती हिंदी में

जय भैरव देवा, प्रभु जय भैरव देवा ।

जय काली और गौरा देवी कृत सेवा ।।

जय भैरव देवा।

तुम्हीं पाप उद्धारक दुःख सिन्धु तारक ।

भक्तों के सुख कारक भीषण वपु धारक ।।

जय भैरव देवा। 

वाहन श्वान विराजत कर त्रिशूल धारी ।

महिमा अमित तुम्हारी जय जय भयहारी ।।

जय भैरव देवा।

तुम बिन देवा सेवा सफल नहीं होवे ।

चौमुख दीपक दर्शन दुःख खोवे ।।

जय भैरव देवा।

तेल चटकि दधि मिश्रित भाषावलि तेरी ।

कृपा करिये भैरव करिए नहीं देरी ।।

जय भैरव देवा।

पांव घुंघरु बाजत अरु डमरु डमकावत ।

बटुकनाथ बन बालक जन मन हरषावत ।।

जय भैरव देवा।

बटकुनाथ की आरती जो कोई नर गावे ।

कहे धरणीधर नर मनवांछित फल पावे ।।

जय भैरव देवा, प्रभु जय भैरव देवा ।

जय काली और गौरा देवी कृत सेवा ।।

जय भैरव देवा।

Bhairav Ji Ki Aarti in English Lyrics

jay bhairav devaa, prabhu jay bhairav devaa .

क्लिक करो 👉  শ্রীহনুমান আরতি | Hanuman Ji Ki Aarti in Bengali PDF

jay kaalii owr gowraa devii kṛt sevaa ..

jay bhairav devaa.

tumhiin paap uddhaarak duahkh sindhu taarak .

bhakton ke sukh kaarak bhiishaṇ vapu dhaarak ..

jay bhairav devaa. 

vaahan shvaan viraajat kar trishuul dhaarii .

mahimaa amit tumhaarii jay jay bhayahaarii ..

jay bhairav devaa.

tum bin devaa sevaa saphal nahiin hove .

chowmukh diipak darshan duahkh khove ..

jay bhairav devaa.

tel chaṭaki dadhi mishrit bhaashaavali terii .

kṛpaa kariye bhairav karie nahiin derii ..

jay bhairav devaa.

paanv ghungharu baajat aru ḍamaru ḍamakaavat .

baṭukanaath ban baalak jan man harashaavat ..

jay bhairav devaa.

baṭakunaath kii aaratii jo koii nar gaave .

kahe dharaṇiidhar nar manavaanchhit phal paave ..

jay bhairav devaa, prabhu jay bhairav devaa .

jay kaalii owr gowraa devii kṛt sevaa ..

jay bhairav devaa.

Leave a Comment