माँ दुर्गा जी की आरती | Durga Aarti PDF in Hindi

दोस्तों आज के इस लेख हम आपके लिए लेकर आये हैं Durga Aarti PDF in Hindi जिसकी सहायता से आप मां दुर्गा की आरती सरलता से प्राप्त कर सकते हैं शास्त्रों के अनुसात जो व्यक्ति मां दुर्गा की आरती करता है उस व्यक्ति के जीवन में आने वाली समस्याएं समाप्त हो जाती हैं।

आप यहाँ न सिर्फ सम्पूर्ण दुर्गा आरती हिंदी में पढ़ सकते है बल्कि दुर्गा आरती pdf को एक क्लिक में डाउनलोड भी कर सकते हैं।

Maa Durga Aarti Lyrics in Hindi

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी ।

तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवरी ॥

ॐ जय अम्बे गौरी..॥

मांग सिंदूर विराजत, टीको मृगमद को ।

उज्ज्वल से दोउ नैना, चंद्रवदन नीको ॥

ॐ जय अम्बे गौरी..॥

कनक समान कलेवर, रक्ताम्बर राजै ।

रक्तपुष्प गल माला, कंठन पर साजै ॥

ॐ जय अम्बे गौरी..॥

केहरि वाहन राजत, खड्ग खप्पर धारी ।

सुर-नर-मुनिजन सेवत, तिनके दुखहारी ॥

ॐ जय अम्बे गौरी..॥

कानन कुण्डल शोभित, नासाग्रे मोती ।

कोटिक चंद्र दिवाकर, सम राजत ज्योती ॥

ॐ जय अम्बे गौरी..॥

शुंभ-निशुंभ बिदारे, महिषासुर घाती ।

धूम्र विलोचन नैना, निशदिन मदमाती ॥

ॐ जय अम्बे गौरी..॥

चण्ड-मुण्ड संहारे, शोणित बीज हरे ।

मधु-कैटभ दोउ मारे,सुर भयहीन करे ॥

ॐ जय अम्बे गौरी..॥

ब्रह्माणी, रूद्राणी, तुम कमला रानी ।

आगम निगम बखानी, तुम शिव पटरानी ॥

ॐ जय अम्बे गौरी..॥

चौंसठ योगिनी मंगल गावत, नृत्य करत भैरों ।

बाजत ताल मृदंगा, अरू बाजत डमरू ॥

क्लिक करो 👉  শ্রীহনুমান আরতি | Hanuman Ji Ki Aarti in Bengali PDF

ॐ जय अम्बे गौरी..॥

तुम ही जग की माता, तुम ही हो भरता।

भक्तन की दुख हरता, सुख संपति करता ॥

ॐ जय अम्बे गौरी..॥

भुजा चार अति शोभित, खडग खप्पर धारी ।

मनवांछित फल पावत, सेवत नर नारी ॥

ॐ जय अम्बे गौरी..॥

कंचन थाल विराजत, अगर कपूर बाती ।

श्रीमालकेतु में राजत, कोटि रतन ज्योती ॥

ॐ जय अम्बे गौरी..॥

श्री अंबेजी की आरती, जो कोइ नर गावे ।

कहत शिवानंद स्वामी, सुख-संपति पावे ॥

ॐ जय अम्बे गौरी..॥

मां दुर्गा जी की आरती का महत्त्व

शास्त्रों के अनुसार ऐसा माना जाता है कि यदि आप नियमित रूप से दुर्गा चालीसा का पाठ करते हैं तो इससे माता रानी बहुत अधिक प्रसन्न होती है

माता दुर्गा की आरती करते समय पूजा की थाली में घी या कपूर के दीपक जलाए और आरती करते समय साथ में संखवास घंटी बजाते हुए मां दुर्गा की आरती गाएं मान्यताओं के अनुसार ऐसा माना जाता है, कि आरती के दौरान यदि शंखनाद और घंटी बजाएं तो उसकी ध्वनि से घर में आने वाली सभी नकारात्मक शक्तियां समाप्त हो जाती हैं।

Leave a Comment